aacharya Ramchandra Shukla ka jivan parichay | आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का जीवन परिचय, रचनाऐं-1

Ramchandra Shukla: रामचन्द्र शुक्ल का जन्म 4 अक्टूबर 1884 को बस्ती अगोना गाँव, ज़िला बस्ती, उत्तरप्रदेश में हुआ था। 1898 में आपने मिडिल की परीक्षा उत्तीर्ण की व 1901 में मिर्ज़ापुर से एंट्रेंस की। आपकी एफ० ए० व मुख़्तारी की पढ़ाई पूरी ने हो सकी। आपने अपनी पहली नौकरी 1904 में मिशन स्कूल में ड्रांइग मास्टर के रूप में की।

Premchand ka jivan parichay | मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय, premchand ki kahaniyan-1936

 

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का जीवन परिचय इस प्रकार है: aacharya ramchandra shukla ka jivan parichay

  • उनका जन्म 4 अक्टूबर 1884 को उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के अगोना गांव में हुआ।
  • उनके पिता पंडित चन्द्रबली शुक्ल कानूनगो थे और माता निवासी देवी।
  • माता की मृत्यु के बाद, पिता ने दूसरी शादी कर ली।
  • उन्होंने मिर्जापुर के लंदन मिशन स्कूल से 1901 में स्कूल फाइनल परीक्षा पास की।
  • पिता की इच्छा के विरुद्ध, उन्होंने साहित्य में ही अपना करियर बनाया।
  • 1908 में, काशी नागरी प्रचारिणी सभा ने उन्हें हिन्दी-शब्द-सागर के सह सम्पादक के पद पर नियुक्त किया।
  • 1919 में, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में हिन्दी के प्राध्यापक हुए।
  • 1937 से 1941 तक, हिन्दी विभाग के अध्यक्ष के पद पर सेवा की।
  • 2 फरवरी 1941 को, हृदय का दौरा पड़ने से मृत्यु हो गई।

Hindi Cinema | The Golden Age of Hindi Cinema | The Evolution of Hindi Cinema | The Future of Hindi Cinema | 110 Years Popular Cinema

aacharya ramchandra shukla ka jivan parichay | आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का जीवन परिचय, रचनाऐं
aacharya ramchandra shukla ka jivan parichay | आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का जीवन परिचय, रचनाऐं

मुख्य कृतियाँ:

  • हिन्दी साहित्य का इतिहास (1929)
  • चिन्तामणि (1914)
  • मनोहर (1924)
  • सतसई (1932)
  • हिन्दी-कहानी (1936)

रचनाएं:-

  • निबंध:- चिंतामणि (दो भाग), विचार वीथी।
  • आलोचना:- रसमीमांसा, त्रिवेणी (सूर, तुलसी और जायसी पर आलोचनाएं)।
  • इतिहास:- हिंदी साहित्य का इतिहास।
  • संपादन:- तुलसी ग्रंथावली, जायसी ग्रंथावली, हिंदी शब्द सागर, नागरी प्रचारिणी पत्रिका, भ्रमरगीत सार, आनंद कादंबिनी।
  • काव्य रचनाएं:- ‘अभिमन्यु वध’ , ’11 वर्ष का समय’ ।
  • प्रमुख कृतियां – हिंदी साहित्य का इतिहास, हिंदी शब्द सागर, चिंतामणि व नागरी प्रचारिणी पत्रिका।

शुक्ल जी द्वारा संपादित कृतियां

  • जायसी ग्रंथावली (1925 ईस्वी)

  • भ्रमरगीत सार (1926 ईस्वी)

  • गोस्वामी तुलसीदास

  • वीर सिंह देव चरित

  • भारतेंदु संग्रह

  • हिंदी शब्द सागर

aacharya ramchandra shukla ka jivan parichay | आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का जीवन परिचय, रचनाऐं
aacharya ramchandra shukla ka jivan parichay | आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का जीवन परिचय, रचनाऐं

मौलिक रचना – कविताएं

  • जायसी

  • तुलसी

  • सूरदास

  • रस मीमांसा (1949 ईस्वी)

  • भारत में वसंत

  • मनोहारी छटा

  • मधु स्रोत

 

अनुवाद कार्य

  • कल्पना का आनंद

  • राज्य प्रबंध शिक्षा

  • विश्व प्रपंच

  • आदर्श जीवन

  • मेगस्थनीज का भारत विषय का वर्णन

  • बुद्ध चरित्र

  • शशांक

  • हिंदी साहित्य का इतिहास 1929 (ईसवी)

  • फारस का प्राचीन इतिहास

aacharya ramchandra shukla ka jivan parichay | आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का जीवन परिचय, रचनाऐं
aacharya ramchandra shukla ka jivan parichay | आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का जीवन परिचय, रचनाऐं

निबंध संग्रह

  • काव्य में रहस्यवाद (1929 ईस्वी)

  • विचार वीथी 1930 (ईस्वी), 1912 ईस्वी से 1919 ईस्वी तक

  • रस मीमांसा (1949 ईस्वी)

  • चिंतामणि भाग 1 (1945 ईस्वी)

  • चिंतामणि भाग 2 (1945 ईस्वी)

  • चिंतामणि भाग 3 (नामवर सिंह द्वारा संपादित)

  • चिंतामणि भाग 4 (कुसुम चतुर्वेदी संपादित शुक्ल द्वारा लिखी गई विभिन्न पुस्तकों की भूमिका और गोष्ठियों में दिए गए उदाहरण।)

 

आचार्य रामचंद्र शुक्ल जी के निबंध

  • काव्य में प्राकृति दृश्य

  • रसात्मक बोध के विविध स्वरूप

  • काव्य में अभिव्यंजनावाद

  • कविता क्या है?

  • काव्य में लोकमंगल की साधनावस्था

  • भारतेंदु हरिश्चंद्र

  • काव्य में रहस्यवाद

  • मानस की जन्मभूमि

  • साहित्य

  • उपन्यास

  • मित्रता

  • साधारणीकरण और व्यक्ति

  • तुलसी का भक्ति मार्ग

aacharya ramchandra shukla ka jivan parichay | आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का जीवन परिचय, रचनाऐं

सारांश:

  • आचार्य रामचन्द्र शुक्ल एक प्रमुख हिन्दी आलोचक, लेखक और इतिहासकार थे, जिनका जन्म 1884 में उत्तर प्रदेश में हुआ था।
  • उन्होंने कम उम्र में ही अपनी माँ को खो दिया और अपनी सौतेली माँ से कठिनाइयों का सामना किया।
  • उन्होंने अपने पिता की इच्छा के बावजूद साहित्य के प्रति अपने जुनून को जारी रखा और एक प्रसिद्ध संपादक, शिक्षक और विद्वान बन गये।
  • उन्होंने हिंदी कविता, गद्य, इतिहास और आलोचना पर कई रचनाएँ लिखी और संपादित कीं, जैसे हिंदी साहित्य का इतिहास, चिंतामणि, मनोहर और सतसई।
  • 1941 में काशी हिंदू विश्वविद्यालय में हिंदी विभाग के प्रमुख के रूप में कार्य करते समय दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गई।

मुख्य कार्य:

  • हिंदी साहित्य का इतिहास (1929) – हिंदी साहित्य का एक व्यापक और आधिकारिक इतिहास
  • चिंतामणि (1914) – भाषा, संस्कृति, राजनीति और धर्म जैसे विभिन्न विषयों पर निबंधों का संग्रह
  • मनोहर (1924) – उनके अपने अनुभवों और टिप्पणियों पर आधारित लघु कहानियों का संग्रह
  • सतसई (1932) – बिहारी लाल के प्रसिद्ध सात सौ छंदों पर एक संस्करण और टिप्पणी
  • हिंदी-कहानी (1936) – हिंदी लघुकथा शैली के विकास और विशेषताओं का एक आलोचनात्मक अध्ययन

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

error: