निंबार्क संप्रदाय (nimbark sampraday) | Hindi Sahitya No. 1 Website- WikiFilmia

निंबार्क संप्रदाय- निम्बार्क एक ऋषि थे जो 7वीं शताब्दी में भारत में रहते थे। उन्हें वैदिक पूजा पर ग्रंथों की एक श्रृंखला लिखने का श्रेय दिया जाता है। इन ग्रंथों में, निम्बार्क हिंदू पूजा से जुड़े विभिन्न संस्कारों और समारोहों को करने के निर्देश प्रदान करता है। निम्बार्क को भगवान सूर्य का अवतार कहा जाता है। कुछ लोग उन्हें भगवान के सुदर्शन चक्र का अवतार भी मानते हैं।

द्वैताद्वैत वाद / भेदाभेदवाद क्या है (Dvaitadvaita)- अर्थ, प्रवर्तक, सिद्धान्त और निम्बार्क संप्रदाय | WikiFilmia- No. 1 Website

निंबार्क संप्रदाय

निंबार्क संप्रदाय, जिसे द्वैतवादी संप्रदाय भी कहा जाता है, हिंदू धर्म के वैष्णव संप्रदायों में से एक है। यह संप्रदाय भगवान विष्णु की सर्वोच्चता और उनकी पत्नी लक्ष्मी के साथ उनके अद्वैत संबंध की मान्यता पर आधारित है।

निंबार्क संप्रदाय के संस्थापक निम्बार्काचार्य थे, जो 12वीं शताब्दी के एक वैष्णव संत थे। उन्होंने वेदांत के अद्वैत दर्शन को अपनाया और इसे वैष्णववाद के साथ जोड़ा। निम्बार्काचार्य के अनुसार, भगवान विष्णु ही परम सत्य हैं और वे सृष्टि के स्रोत और उद्देश्य हैं। लक्ष्मी, जो विष्णु की पत्नी हैं, उनकी शक्ति और प्रेम का प्रतीक हैं।

निंबार्क संप्रदाय का मानना ​​​​है कि मोक्ष प्राप्त करने का एकमात्र तरीका भगवान विष्णु की भक्ति करना है। भक्तों को भगवान विष्णु के रूपों, नामों और मंत्रों में ध्यान केंद्रित करने का अभ्यास करना चाहिए। निंबार्क संप्रदाय के अनुयायी भगवान विष्णु के कई रूपों की पूजा करते हैं, जिनमें कृष्ण, राम, नारायण और हरि शामिल हैं।

निंबार्क संप्रदाय भारत के कई हिस्सों में फैला हुआ है। इसका मुख्य केंद्र ओडिशा में स्थित है, जहां निंबार्काचार्य का जन्म हुआ था। निंबार्क संप्रदाय के कई मंदिर और मठ भारत के विभिन्न हिस्सों में पाए जाते हैं।

निंबार्क संप्रदाय के कुछ प्रमुख सिद्धांत निम्नलिखित हैं:

निंबार्क संप्रदाय (nimbark sampraday) | Hindi Sahitya No. 1 Website- WikiFilmia

  • भगवान विष्णु ही परम सत्य हैं।
  • लक्ष्मी, जो विष्णु की पत्नी हैं, उनकी शक्ति और प्रेम का प्रतीक हैं।
  • मोक्ष प्राप्त करने का एकमात्र तरीका भगवान विष्णु की भक्ति करना है।
  • भक्तों को भगवान विष्णु के रूपों, नामों और मंत्रों में ध्यान केंद्रित करने का अभ्यास करना चाहिए।
  • निंबार्क संप्रदाय के अनुयायी भगवान विष्णु के कई रूपों की पूजा करते हैं।

निंबार्क संप्रदाय ने हिंदू धर्म में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। इसने वैष्णववाद के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और इसने वेदांत के अद्वैत दर्शन को हिंदू धर्म के अन्य संप्रदायों के साथ जोड़ने में मदद की है।

निंबार्क संप्रदाय (nimbark sampraday) | Hindi Sahitya No. 1 Website- WikiFilmia

  • निम्बार्क ने निम्बार्कस, निमांडी या निमावत्स नामक भक्ति संप्रदाय की स्थापना की। इस संप्रदाय के लोग देवता कृष्ण और उनकी पत्नी राधा की पूजा करते थे। निम्बार्क संप्रदाय भारत के प्रमुख संप्रदायों में से एक है। इस संप्रदाय का प्राचीन मंदिर मथुरा में ध्रुव टीले पर स्थित है। निम्बार्क संप्रदाय के लोग विशेष रूप से उत्तर भारत में रहते हैं। निंबार्क संप्रदाय के संस्थापक भास्कराचार्य थे, जो एक सन्यासी थे। निंबार्क का अर्थ है “नीम पर सूर्य”।
  • निंबार्क संप्रदाय का प्राचीन मंदिर मथुरा में ध्रुव टीले पर स्थित है। इस संप्रदाय का सिद्धांत ‘द्वैताद्वैतवाद’ कहलाता है, जिसे ‘भेदाभेदवाद’ भी कहा जाता है। निंबार्क संप्रदाय के अन्य नामों में ‘सनकादि सम्प्रदाय’, ‘हंस सम्प्रदाय’ और ‘देवर्षि सम्प्रदाय’ शामिल हैं। निम्बार्काचार्य का दर्शन ‘स्वाभाविक द्वैताद्वैत’ या ‘स्वाभाविक भेदाभेद’ के नाम से जाना जाता है। उनका मानना था कि जीव, माया और जगत ब्रह्म से द्वैताद्वैत हैं।
  • उनका मानना था कि ब्रह्म सजातीय और विजातीय भेद से रहित है, लेकिन जीव, जगत और ब्रह्म में वास्तविक भेदाभेद संबंध है। निम्बार्काचार्य का मानना था कि सभी आत्माएं मूल रूप से ईश्वर के साथ एक थीं, लेकिन अज्ञानता के कारण वे अपनी दिव्य प्रकृति से अलग हो गईं। उन्होंने भक्ति योग के माध्यम से ईश्वर के साथ फिर से जुड़ने के लिए आत्माओं को पुनः प्राप्त करने के लिए भक्ति को एक साधन के रूप में देखा।
  • निम्बार्काचार्य ने ब्रह्मसूत्र, उपनिषद और गीता पर टीकाएँ लिखकर अपना दर्शन प्रस्तुत किया। निंबार्क संप्रदाय द्वैताद्वैत दर्शन पर आधारित है, जिसे द्वैतवादी गैर-द्वैतवाद भी कहा जाता है। द्वैताद्वैत दर्शन कहता है कि मनुष्य ईश्वर, ईश्वर या सर्वोच्च सत्ता से भिन्न और गैर-भिन्न दोनों हैं। निंबार्क संप्रदाय के संस्थापक निंबार्क एक तेलुगु ब्राह्मण, योगी और दार्शनिक थे। उन्होंने ब्रह्मसूत्र, उपनिषद और गीता पर अपनी टीका लिखकर अपना समग्र दर्शन प्रस्तुत किया।
  • उनकी यह टीका ‘वेदान्त-पारिजात-सौरभ’ के नाम से प्रसिद्ध है। निंबार्क के अनुसार, अस्तित्व की तीन श्रेणियां हैं, अर्थात् ईश्वर (ईश्वर, दिव्य अस्तित्व); सीआईटी (जीव, व्यक्तिगत आत्मा); और अचित्त (निर्जीव पदार्थ)। निंबार्क संप्रदाय की कुलदेवी श्री सर्वेश्वर हैं। यह संप्रदाय राधा और कृष्ण की युगल मूर्ति के प्रतीक सर्वेश्वर शालिग्राम की पूजा करता है। निंबार्क संप्रदाय की स्थापना निंबार्काचार्य ने की थी।
  • निंबार्काचार्य का जन्म 3096 ईसा पूर्व में हुआ था। उनका जन्मस्थान महाराष्ट्र के छत्रपति संभाजी महाराज नगर के पास मूंगीपैठन में है। निंबार्क संप्रदाय का प्रमुख केंद्र राजस्थान का सलेमाबाद है। मथुरा के ध्रुव टीला और नारद टीला में इस संप्रदाय के मंदिर और आचार्यों की समाधि है। वृंदावन भी इस संप्रदाय का केंद्र है।

Source

  1. https://hi.wikipedia.org/

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

error: